Blunt बातचीत विद राइटर- अमित गुप्ता…

Spread the love

१. अपने बारे में कुछ हमारे पाठकों को बताईये, लेखन की शुरुआत करने से पहले आप क्या किया करते थे I

मैं बंगाल से हूँ और पढ़ाई पूरी करने के बाद नौकरी की तलाश में, आज से सोलह साल पहले दिल्ली आया था। तब से इसी शहर में गुज़र-बसर है। वैसे तो लिखते हुए क़रीब बारह साल हो गए, लेकिन, अगर समय के मापदंड से देखा जाए, तो एक लेखक होश सम्भालने के बाद से ही लिखने लगता है I
क्यूँकि जब एक लेखक कुछ रचता है, तो वो बचपन से लेकर अब तक के अपने तमाम अनुभवों को ध्यान में रखता है। 

मैं नौकरी के साथ-साथ लेखन करता हूँ और मैं बारह साल से एक टेलिकॉम कम्पनी में कार्यरत हूँ। 

२.आपकी अभी तक कौन-कौन सी पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं, थोड़ा अपनी पुस्तकों के बारे में बताईये I 

2018 में मेरी पहली किताब ‘रात के उस पार’ जो कि एक कविता संग्रह है हिंदी अकादमी नई दिल्ली के सौजन्य से हिंद युग्म से प्रकाशित हुई। संग्रह हिंदी अकादमी के ‘नवलेखन ग्रांट स्कीम’ के तहत चयनित हुई थी। यह ग्रांट हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए नए लेखकों को दिया जाता है, ताकि हिंदी साहित्य को नए लेखक मिलें, जो हमारी मातृ भाषा को आगे बढ़ा सकें।  

संग्रह में जीवन से जुड़ी कविताएँ हैं: जहाँ मैंने कहीं ज़िंदगी के जाने-पहचाने तो कहीं अनदेखे-अनसुने पहलुओं को दर्शाने की कोशिश की है; कहीं सपनों की खोज है तो कहीं अस्तित्व की, कहीं प्रेम का ज़िक्र है तो कहीं विरह की व्यथा, तो कहीं सिर्फ़ जीवित रहने की कोशिश। 

2020 में मेरी दूसरी किताब, अंग्रेज़ी कविता संग्रह ‘Uncollected Nothingness’ प्रकाशित हुई। संग्रह में मैंने उन क्षणों को शब्दों में गढ़ने की कोशिश की है जो नीरवता से भरे होते हैं, क्षण जो एकांत की खोज में अग्रसर होते हैं। जैसा कि संग्रह के नाम से आप अनुमान लगा सकते हैं, यहाँ उन क्षणों का भी ज़िक्र है, जो कि हमारे इर्द-गिर्द बिखरे पड़े रहते हैं, और हमारा ध्यान अक्सर उन पर जाता ही नहीं। 

३. पहली पुस्तक छपवाना कितना मुश्किल था और छपने के बाद के अहसास के बारे में बताईये I   

जैसे प्रथम प्रेम पाना बहुत कठिन होता है, पहली किताब का प्रकाशित होना भी उसी तरह कठिन होता है। जब तक सोने को आग में नहीं तापा जाता वो कुंदन नहीं बन सकता, ठीक उसी तरह, कठिनाइयों में तपे बिना लेखक नहीं बना जा सकता। साथ मेरा यह भी मानना है कि एक बार आपने काग़ज़ पर कुछ लिख दिया, तो फिर चाहे वो कविता हो, कहानी या फिर उपन्यास, वो आपके मन के काग़ज़ से उठ के इस दुनिया के काग़ज़ पे स्वयं ही प्रकाशित हो जाती है क्यूँकि वो आपके अंतरमन से बाहर निकलकर अब एक आकार ले चुकी है। सफ़र अब मात्र आपकी कापी से प्रकाशक द्वारा छापी गयी किताब तक का रह जाता है। 

पहली किताब का प्रकाशित होना ठीक वैसा ही होता है जैसे बचपन में मिली पहली साइकल। ऐसा लगता है कि जैसे आपको साइकल नहीं, दो पंख दे दिए गए हों और वो पंख लगाकर आप दूर कहीं आसमान में बेबाक़ होकर उड़ने लगते हैं। साथ गिरने का डर भी रहता है, अब पहली साइकल है, तो बच्चा उसे चलाना भी सीखता है, चाहता है कि वो इस काम में दक्ष हो और बिना किसी के मदद से दूर तक अपने सफ़र को तय करने में सफल हो। 

४. आपकी कौन सी क़िताब का करैक्टर/लाइन आपको सबसे प्रिय है और आख़िर क्यूँ I 

अभी तक मेरा कोई कहानी संग्रह या उपन्यास किताब के रूप में प्रकाशित नहीं हुआ है, लेकिन हाँ, हाल ही मेरी एक कहानी जानकी पुल पर प्रकाशित हुई थी। कहानी का नाम ‘अमावस’ था और कहानी का मुख्य पात्र एक अंधा लेखक। मुझे ये पात्र बहुत प्रिय है क्यूँकि, ये सोचकर ही बहुत आश्चर्य होता है कि एक लेखक अंधा कैसे हो सकता है। और अगर है, तो क्या जन्म से अंधा है, या किसी दुर्घटना की वजह से अंधा हुआ? क्या वो लेखक बनने के पहले से अंधा था, या लेखक बनने के बाद? कहीं उसने अपनी आँखें लेखन के कारण तो नहीं खो दीं? 

५. कोई नया लेखक अपनी पहचान कैसे बनायें I 

एक लेखक की पहचान उसके विचार, उसके आचरण और उसकी रचनाओं से होती है। कोई भी काम अगर सच्चाई से, ईमानदारी से और पूरी श्रद्धा से की जाए, तो देर-सबेर उस काम से सफलता और पहचान, दोनों ही मिलती है। सबसे ज़रूरी है धैर्य रखना और अपना काम करते जाना। ज़रूरी है अपनी कला पर लगातार काम करते रहना, अपनी शैली को बेहतर बनाने की कोशिश में जुटे रहना। जिसके लिए पढ़ना बहुत ज़रूरी है। एक अच्छा लेखक बनने के लिए एक अच्छा पाठक बनना बहुत ज़रूरी है। 

और अगर लेखक की शैली अच्छी है, तो उसे देर-सबेर पहचान ज़रूर मिलती है। 

६. आप किस नई क़िताब पर काम कर रहे हैं, पाठकों के लिए संदेश I   

मैंने हाल ही में LGBTQ विषय पर एक उपन्यास लिखा है। आशा है जल्द ही यह उपन्यास पाठकों के हाथों में होगा। 

Related posts

Leave a Comment