पाकिस्तान को अपने लाहौर को बचाना चाहिए क्यूंकि ऐसा लाहौर नहीं चाहिए…

Spread the love

पाकिस्तान का लाहौर जिसे याद करके कोई नहीं थकता, मैंने तो कई बार लोगों से ये भी सुना है कि विभाजन से पहले ये तक कहा जाता था कि लाहौर पाकिस्तान को इसलिए दे दिया गया जिससे उनके पास एक ढंग का शहर तो हो I

लेकिन वो कहते हैं जिससे ज़्यादा उम्मीदें बाँध लो वो वहीँ पर आकर सब ख़त्म कर लेता है, पाकिस्तान वैसे भी हर तरह से घिरा हुआ है चाइना के कर्ज़े, कट्टरपंथ/आंतकवाद कि हवा और कश्मीर में उनका बेवज़ह का लफड़ा सबका पाकिस्तान के ऊपर ही प्रेशर बन जाता है I

पाकिस्तान को कभी अपनी आवाम कि फ़िक्र नहीं रही बल्कि उसको इससे मतलब रहा की हिंदुस्तान में क्या चल रहा है और वो कैसे हिंदुस्तान में पंगे कर सके I लेकिन जब मैंने लाहौर में हुई उस घटना के बारे में पढ़ा तब से मेरे अन्दर बेचैनी है कि आख़िर लाहौर जैसे शहर जो संस्कृति और विरासत का शहर कहा जाता है वहाँ ऐसी वहशीपन से भरी हुई हरकत कोई कैसे कर सकता है I

एक महिला अपने बच्चों के साथ लाहौर शहर से चलती है और एक गैंग उसपर अटैक करता है और उस महिला का एक हाईवे पर गैंगरेप किया जाता है, इस घटना के बाद पूरे पाकिस्तान में हंगामा हो गया है कि शारीरिक हिंसा के शिकार लोगों को इंसाफ मिले I

पाकिस्तान पुलिस ने अभी तक 15 लोगों को इस मामले में गिरफ्तार कर लिया है, असल में मामला तब शुरू हुआ जब इस महिला की कार रास्तें में ख़राब हो गई I ये महिला अपने बच्चों को लेकर लाहौर (पंजाब प्रांत की राजधानी) से गुजरांवाला जा रही थी I

अनजान लोगो ने इन पर हमला किया और और इनकी गाड़ी के शीशे तोड़ दिए और पास के खेतों में ले जाकर बेरहमी से महिला के साथ इस घिनौने कृत्य को अंज़ाम दिया और इनके पास जो कैश और जेवर थे सब लूट लिए I

लोकल मीडिया की रिपोर्ट्स की माने तो एक सबसे ख़राब बात इस घटिया वारदात से ये सामने आ रही है कि उनका बलात्कार उनके बच्चों के सामने किया गया I वहां की प्रांतीय पुलिस ने कहा है कि ये नया हाईवे है और यहाँ पुलिस का डिप्लॉयमेंट नहीं था और अब वो वहाँ पुलिस ड्यूटी लगायेंगे, मतलब जब घटना हो जाएगी तब जाकर पुलिस को अक्ल आएगी और वो पुलिस लगा देगी I

ऊपर से आग में घी डालने का काम लाहौर के पुलिस प्रमुख उम्र शेख कि बात ने कर दिया, शेख साहब ने कहा की;

उसे अकेले यात्रा नहीं करनी चाहिए थी।
“पाकिस्तानी समाज में कोई…अपनी बहनों-बेटियों को देर रात अकेले नहीं जाने देगा।”

लाहौर पुलिस प्रमुख उमर शेख का स्टेटमेंट

पाकिस्तान के एक “राजनितिक दल” जमात-ए-इस्लामी कि तरफ से कहा गया है की अगर दोषियों पर कारवाई नहीं हुई तो वो सड़क पर आ जायेंगे I

यार ये नेता लोग इतने क्यूट बन जाते हैं या पहले से होते हैं I

खैर इसी जमात-ए-इस्लामी के नेता सिराजुल हक़ ने गुस्सा और अफ़सोस जताया है और अथॉरिटी से डिमांड की हैं, सिराजुल हक़ ने ऑफिसियल डाटा के बारे में बताया कि सच में पाकिस्तान में चल क्या रहा है I उन्होंने कहा कि;

जनवरी 2020 से सितम्बर 2020 के बीच पाकिस्तान के पंजाब में 10,000 केस रेप, गैंग रेप, किडनैप, रजिस्टर किये गए हैं I ट्रांसफर और पोस्टिंग के चक्कर में पाकिस्तान पुलिस की पहले से ख़राब इमेज और ज़्यादा ख़राब हो रही है, उन्होंने कहा कि पुलिस सिस्टम में भारी सुधार की ज़रूरत है और इस अराजकता और जंगल के कानून की वज़ह से जनता सेफ एंड सिक्योर फ़ील नहीं कर रही है I

ये सब पढ़कर उस लाहौर का सपना टूट ही गया जो दिल्ली के मंडी हाउस में नाटक दिखाकर लोगो को बनाया गया कि “जिन लाहौर नहीं वेख्या ओ जनम्याई नई”

बस अंत में यही कहूँगा नहीं देखना ऐसा लाहौर जहाँ अब संस्कृति ख़ुद को ख़त्म करने पर तुली है I

Related posts

Leave a Comment