Ind vs Aus:भारत की ऑस्ट्रेलिया की जमीन पर ऐतिहासिक जीत ,गाबा के मैदान में पिछले 35 सालो से नहीं हारी थी ऑस्ट्रेलिया

Spread the love

भारत ने ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर किया “सर्जिकल स्ट्राइक”। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया चौथा टेस्ट मैच एक रोमाँचक तरीके से भारत ने 3 विकेट से जीत लिया। भारतीय टीम के लिए ये जीत और सीरीज जीत एक ऐतिहासिक जीत बन गयी है। भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली गई बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी को भारतीय टीम ने 2-1 से अपने नाम कर लिया।

गाबा में खेला गया चौथा टेस्ट मैच भारतीय टीम ने 328 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए जीत लिया है। बताता चलूँ की गाबा के मैदान पर ऑस्ट्रेलिया पिछले 32 सालों से अजेय थी। जिसे आज भारतीय टीम ने हराकर ये रिकॉर्ड तोड़ दिया।

भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली के घर लौटने पर अजिंक्य रहाणे ने टीम की कमान सम्भाली। पहला मैच हारने के बाद भारतीय टीम ने दूसरा मैच जीता था और तीसरा मैच ड्रॉ रहा था। इस आखिरी मुक़ाबले में भारतीय टीम के खिलाड़ियों ने जी-जान लगाकर जीत का परचम लहराया।

मैच के प्रमुख हीरो।

भारत के लिए डेब्यू कर रहे “वाशिंगटन सुंदर”(62) और “शार्दूल ठाकुर”(67) ने पहली पारी में शानदार अर्द्धशतक लगाकर मैच में भारतीय टीम की वापसी करवाई।

इसके बाद दूसरी पारी में भारतीय गेंदबाजों “मोहम्मद सिराज”(5 विकेट) और “शार्दूल ठाकुर”(4 विकेट) ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को बड़ा स्कोर नहीं बनाने दिया।

ऑस्ट्रेलिया से मिले 328 रनों के विशाल लक्ष्य का पीछा कर जीत दर्ज करने में मैच के पाँचवें दिन बल्लेबाजों के अहम योगदान रहा। अपनी डेब्यू सीरीज खेल रहे युवा बल्लेबाज “शुबमन गिल”(91) ने शानदार अर्द्धशतक बनाया लेकिन वे अपना शतक पूरा करने से चूक गए। उनके अलावा “चेतेश्वर पुजारा”(56) और “ऋषभ पन्त”(89*) ने शानदार बल्लेबाजी कर भारत को जीत दिलाई।

चोट बनी समस्या।

भारत के लिए ये सीरीज जीत इसलिए भी खास है क्योंकि उसने ये अपने प्रमुख खिलाड़ियों की अनुपस्तिथि में जीती है। इस सीरीज में भारतीय खिलाड़ी चोट से जूझते नज़र आये और लगभग आधा दर्जन खिलाड़ी चोट के चलते बाहर हो गए। इसके बावजूद भारतीय युवा खिलाड़ियों ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए ये ऐतिहासिक जीत दिलाई।

भारत के लिए “टी नटराजन” और “वाशिंगटन सुंदर” ने डेब्यू किया।

संक्षिप्त स्कोर:-
पहली पारी ऑस्ट्रेलिया:- 369 पर ऑल आउट
(लबुशेन- 108 रन, ठाकुर, सुंदर, नटराजन- 3-3 विकेट)

भारत पहली पारी:- 336 पर ऑल आउट
(ठाकुर- 67 रन, हैजेलवुड- 5 विकेट)

ऑस्ट्रेलिया को 33 रनों की बढ़त प्राप्त हुई।

दूसरी पारी ऑस्ट्रेलिया:- 294 पर ऑल आउट
(स्मिथ- 55 रन, सिराज- 5 विकेट)

भारत दूसरी पारी:- 329/7
(गिल- 91 रन, कमिंस- 4 विकेट)

पहली पारी ऑस्ट्रेलिया।
15 जनवरी को शुरू हुए चौथे टेस्ट मैच में टॉस जीतकर ऑस्ट्रेलिया ने पहले बैटिंग करने का फैसला लिया। ऑस्ट्रेलिया की शुरुआत काफी खराब रही। उसके दोनों सलामी बल्लेबाज जल्दी ही पवैलियन लौट गए।

मार्न्स लबुशेन और स्टीव स्मिथ ने तीसरे विकेट के लिए बढ़िया साझेदारी निभाई। लबुशेन ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए शतक(108) जड़ा। स्टीव स्मिथ सिर्फ 36 रन ही बना सके। कप्तान टीम पेन ने भी अपना अर्द्धशतक(50) पूरा किया।

भारतीय टीम के लिए वाशिंगटन सुंदर, टी नटराजन और शार्दूल ठाकुर ने 3-3 विकेट चटकाए। टी नटराजन और सुंदर का ये डेब्यू मैच था।

पहली पारी भारत।
भारतीय टीम की पारी की शुरुआत करने उतरे रोहित शर्मा और शुबमन गिल अच्छी शुरुआत नहीं दे पाए। गिल(7) रन बनाकर और रोहित शर्मा 44 रन बनाकर आउट हो गए।

भरोसेमंद बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा(25), कप्तान अजिंक्य रहाणे(37) और ऋषभ पंत(23) ज्यादा बड़ा स्कोर नहीं बना पाए। एक समय 186/6 विकेट गँवाकर मुश्किल में नज़र आ रही भारतीय टीम को वाशिंगटन सुंदर और शार्दूल ठाकुर ने सम्भाला। सुंदर(65) और ठाकुर(67) ने 123 रनों की साझेदारी की और अपने अपने मेडन अर्द्धशतक पूरे किए।

ऑस्ट्रेलिया टीम ने भारत पर 33 रनों की बढ़त हासिल की।

ऑस्ट्रेलिया के लिए हैजेलवुड ने सर्वाधिक 5 विकेट हासिल किए।

दूसरी पारी ऑस्ट्रेलिया।
अपनी दूसरी पारी की शुरुआत करने उतरी ऑस्ट्रेलिया को उसके सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर(48) और मार्कस हैरिस(38) ने मज़बूत शुरुआत दी।

मैच का चौथा दिन पूरी तरह से भारतीय तेज़ गेंदबाज़ों के नाम रहा। उन्होंने किसी भी ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज को खुलकर खेलने का मौका नहीं दिया। स्टीव स्मिथ(55) ही अकेले संघर्ष करते नज़र आये।

भारत के लिए तेज़ गेंदबाजी आक्रमण की अगुआई कर रहे मोहम्मद सिराज ने अपने करियर का बेहतरीन प्रदर्शन किया। उन्होंने 5 विकेट हासिल किए और शार्दूल ठाकुर ने 4 विकेट हासिल किए।

दूसरी पारी भारत।
दूसरी पारी में 328 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम को रोहित शर्मा(7) के रूप में पहला झटका लगा। शुबमन गिल ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए अपना दूसरा अर्द्धशतक(91) पूरा किया। हालांकि वो अपना शतक बनाने से 9 रन से चूक गए।

मैच का आखिरी दिन पूरी तरह से भारतीय बल्लेबाजों के नाम रहा और उनके आगे ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज पूरी तरह से बेबस नज़र आये। चेतेश्वर पुजारा(56) ने एक बार फिर धैर्य का परिचय देते हुए शानदार पारी खेली। कप्तान रहाणे(24) और सुंदर(22) ने उपयोगी तेज़ पारियाँ खेली।

बाएँ हाथ के विस्फोटक विकेट कीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत(89*) ने एक बार फिर दिखाया कि वो एक मैच विनर हैं। उन्होंने अपने अंदाज में बलेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया से जीत छीनकर भारत की झोली में डाल दी।

ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की तरफ से कमिंस ने 4 विकेट हासिल किए।

ऋषभ पंत को शानदार बल्लेबाजी(89*) करने के लिए “प्लेयर ऑफ द मैच” दिया गया।

पेट कमिन्स को पूरी सीरीज में शानदार गेंदबाजी(18 विकेट) करने के लिए “प्लेयर ऑफ द सीरीज” दिया गया।

Related posts

Leave a Comment