दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के कारण 1.7 गुना जीवन रिस्क बढ़ा,डॉक्टरों ने दी घर में रहने की सलाह

Spread the love

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर बढ़ता ही जा रहा है,जिससे सांस संबंधी बीमारियां और बढ़ सकती हैं|

अस्पताल में पहले ही कोविड -19 का प्रकोप के कारण मरीजों की भीड़ से परेशान है वही अब प्रदूषण की वजह से खतरा ओर बढ़ गया है|

वही बिगड़ते वायु प्रदूषण के मद्देनजर डॉक्टरों ने लोगो को घर में ही रहने की सलाह दी है|

डॉक्टरों के मुताबिक पिछले कुछ दिनों में सांस स्वास्थ्य संबंधित मामलों में चार से पांच गुना इजाफा देखा गया है| जिसमें अस्थमा और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज के लक्षणों के तेज होने की शिकायत मिल रही है|

अगर दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर ऐसे ही बना रहता है, तो श्वसन संबंधी बीमारियां और बढ़ सकती हैं|

जिससे संकट की स्थिति ओर पैदा हो सकती है| प्रदूषण के बढ़ते स्तर और तापमान में गिरावट के कारण सिरदर्द, मूड स्विंग्स और डिप्रेशन जैसी अन्य स्वास्थ्य समस्याएं भी सामने आ रही हैं|

लोग शिकायत कर रहे हैं कि घर से बाहर निकलने पर आंखों मे जलन और पानी की समस्या हो रही है, कईं लोगों को लगातार छींकें आ रही है|

Related posts

Leave a Comment