पितृ पक्ष 2020: 2 सितंबर से शुरू हुआ पितृ पक्ष,जानिये श्राद्ध करने की विधि

Spread the love

पितृ पक्ष: आज 2 सितंबर से पितृ पक्ष की शुरुआत हो चुकी है वही हिंदू पंचांग के अनुसार कल 3 सितंबर 2020 से अश्विनी मास भी शुरू हो जाएगा !

वही कृष्ण पक्ष लग चुका है! इस दिन प्रतिपदा की तिथि है और पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र रहेगा,माना जाता है कि आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की पूर्णिमा तिथि से अमावस्या तक पूर्वजों का तर्पण किया जाता है!

3 सितंबर को बृहस्पतिवार को पितृ पक्ष का इस दिन द्वितीय श्राद्ध है,कहा जाता है कि उस व्यक्ति का श्राद्ध करने का विधि -विधान होता है जिसकी मृत्यु द्वितीय तिथि के दिन होती है!

पितृ पक्ष का पौराणिक महत्व

पितृ पक्ष के पौराणिक महत्व है जहाँ मान्यताओं के अनुसार पितृ पक्ष में पूर्वज पृथ्वी का भ्रमण करते हैं और किसी न किसी रूप में अपने परिजनों के समीप आते हैं! इसीलिए पितृ पक्ष में श्राद्ध कर्म करने का विशेष महत्व माना गया है! पितृ पक्ष में किसी का भी अनादर नहीं करना चाहिए. क्योंकि पूर्वज किसी भी रूप में आ सकते हैं!

द्वितीय श्राद्ध करने की विधि

पितृ पक्ष के दूसरे दिन के श्राद्ध को प्रतिपदा श्राद्व भी कहा जाता हैं! द्वितीय श्राद्ध में दक्षिण दिशा की तरफ मुख करके बैठकर पूजा करनी चाहिए. पूजा स्थान पर पितरों की तस्वीर रखनी चाहिए और उनको स्मरण करना चाहिए!

पितरों की तस्वीर के सामने सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए!
पुष्प और मिष्ठान चढ़ाएं. पूजा में सरसों के तेल में बने पकवान अर्पित करें! श्राद्ध में चढ़े भोग में से पहले गाय, काले कुत्ते और कौए के लिए भोजन निकाल कर खिलाएं. पूजा हो जाने के बाद दान-पुण्य करना चाहिए !

Related posts

Leave a Comment